Ashok Gehlot Nomination: अशोक गहलोत से हो गई तगड़ी मिस्टेक, भाजपा हुई हमलावर

Ashok Gehlot Nomination: राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा अपना नामांकन करवा लिया गया है और इस दरमियान उन्होंने अपनी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां भी दी हुई थी, परंतु अब अशोक गहलोत के नामांकन पर सियासत तेज हो गई है। दरअसल शिकायत में यह सामने आया है कि अशोक गहलोत ने अपने ऊपर लगे हुए क्रिमिनल मामले को छुपाया हुआ है।

Ashok Gehlot Nomination: अशोक गहलोत से हो गई तगड़ी मिस्टेक, भाजपा हुई हमलावर
Ashok Gehlot Nomination: अशोक गहलोत से हो गई तगड़ी मिस्टेक, भाजपा हुई हमलावर

भाजपा के कार्यकर्ताओं के द्वारा सरदारपुर रिटर्निंग ऑफिसर संजय कुमार को मुख्यमंत्री की तरफ से सबूत छुपाने को लेकर के ऑनलाइन शिकायत को दर्ज करवाया गया है। शिकायत मिलने के बाद जिले के निर्वाचन ऑफिसर के द्वारा रिटर्निंग ऑफिसर से इस मामले में इनफार्मेशन प्रदान करने के लिए कहा गया है।

इस मामले से अब राजस्थान में सियासी पारा काफी अधिक बढ़ गया है। भाजपा के द्वारा इस मामले को लेकर के अशोक गहलोत पर आरोप लगाए जा रहे हैं। ऐसे में यह क्वेश्चन पैदा होता है कि, क्या चुनाव आयोग के द्वारा अशोक गहलोत के नामांकन को रद्द किया जा सकता है।

बीजेपी का आरोप गहलोत ने छिपाए दो मामले

भाजपा पार्टी के कार्यकर्ताओं के द्वारा नामांकन पत्र में जानकारी को छुपाने को लेकर के ऑनलाइन शिकायत दर्ज करवा दी गई है।शिकायत के पश्चात भाजपा पार्टी के वकील नाथू सिंह राठौर के द्वारा जानकारी दी गई है कि, अशोक गहलोत के खिलाफ कोर्ट में पांच मामले वर्तमान में चल रहे हैं, परंतु उन्होंने किसी भी मामले का उल्लेख नहीं किया हुआ है। इसके अलावा उन्होंने दिल्ली के दो मामले की भी जानकारी नहीं दी हुई है और उन्होंने अपने शपथ पत्र में सिर्फ तीन मामले की ही जानकारी दी हुई है।

कौन से दो मामलों के तथ्य छिपाए गए है

शिकायत पत्र में यह जानकारी दी गई कि, साल 2015 में 8 सितंबर के दिन अशोक गहलोत के ऊपर पहला मामला दर्ज किया गया था। यह मामला राजस्थान के जयपुर के गांधीनगर पुलिस स्टेशन में दर्ज किया गया था, जिसमें कई धाराएं पुलिस के द्वारा अशोक गहलोत पर लगाई गई थी। अभी भी यह मामला कोर्ट में चल ही रहा है, जिसकी सुनवाई साल 2023 में 24 नवंबर को होगी। दूसरा मामला साल 2022 में 31 मार्च का है, जिसमें शिकायतकर्ता ने अशोक का नाम फर्स्ट इन्वेस्टिगेशन रिपोर्ट में लिखवाया हुआ था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top