पता नहीं चलता Salary आते ही कहां चली जाती है? अपनाएं 50-30-20 का फॉर्मूला, देखते ही देखते जमा हो

जो लोग नौकरी करते हैं उन लोगों के लिए सबसे बड़ी परेशानी है उनका Salary। सैलरी जब आती है तो कहां खत्म हो जाती है वह पता ही नहीं चलता। यह सिर्फ एक नौकरी करने वाला इंसान की कहानी नहीं बल्कि हर नौकरी करने वालों के लिए यह एक बहुत बड़ी परेशानी है। इसके लिए एक बढ़िया तरकीब है जो की मंथली बजट बनाने के लिए आपको हेल्प करता है। वह है 50-30-20 का नियम। इस नियम से आपकी फाइनेंशियल प्लानिंग बेहतर हो सकती है।

पता नहीं चलता Salary आते ही कहां चली जाती है? अपनाएं 50-30-20 का फॉर्मूला, देखते ही देखते जमा हो
पता नहीं चलता Salary आते ही कहां चली जाती है? अपनाएं 50-30-20 का फॉर्मूला, देखते ही देखते जमा हो

जाने क्या है 50-30-20 का नियम?

चलिए जान लेते हैं कि यह मंथली बजट नियम क्या है। 50-30-20 नियम की शुरुआत मां की सीनेट और टाइम मैगजीन के 100 प्रभावशाली लोगों में शामिल एलिजाबेथ वारेन ने किया था। इसके बारे में उन्होंने अपनी बेटी के साथ मिलकर 2006 में एक किताब पब्लिश किया था जिसका नाम है “All Your Worth: The Ultimate Lifetime Money Plan”। उसे किताब में उन्होंने लिखा था की अपनी सैलरी को तीन हिस्सों में बांटना, एक है जरूरत, दूसरा चाहत और तीसरा बचत।

उनके मुताबिक हमें अपनी कमाई का 50 फ़ीसदी हिस्सा उन चीजों पर खर्च करना चाहिए जो हमारे लिए जरूरी है यानी जिनके बिना हमारा गुजारा हो ही नहीं सकता। जैसे कि हमारे रेगुलर जिंदगी में जरुरत के चीजों के ऊपर।

इस नियम का दूसरा हिस्सा यानी 30 फ़ीसदी का जिसे हमें चाहतों पर खर्च करना चाहिए। ऐसी चीज जिन पर खर्च करने से लोगों को खुशी मिलती है यानी जिन्हें ताला भी नहीं जा सकता और जिनके ऊपर पैसा खर्च करने पर थोड़ा खुशी भी मिलता है।

सैलरी का आखिरी हिस्सा यानी 20 फीसदी हमें नियम अनुसार बचत के लिए रखना चाहिए। इन पैसों का इस्तेमाल अपने रिटायरमेंट की प्लानिंग बच्चों की उच्च शिक्षा बच्चों की शादी या इमरजेंसी के रूप में रखना चाहिए।

एक उदाहरण से समझते हैं नियम को

एक उदाहरण से हम आपको पूरा समझा देते हैं। मान लीजिए आपको ₹50000 का सैलरी मिलता है तो 50-30-20 के नियम मुताबिक 50 फीसदी यानी ₹25000 आपके घर की जरूरत पर खर्च करना चाहिए। 30 फ़ीसदी यानी ₹15000 आप अपनी चाहतों पर खर्च कर सकते हैं यानी आप अपने शोक को पूरा करने के लिए इस पैसों को खर्च कर सकते हैं।

यह सब करने के बाद आपके पास जो 20 फीसदी यानी ₹10000 बचेंगे उन पैसों को आप अपने बचत खाता में डाल सकते हैं। यह आपका फ्यूचर में आपका कोई भी इमरजेंसी के वक्त काम आ सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top